PM Gati Shakti Yojna 2021 जाने सबकुछ

गति शक्ति योजना: प्रधानमंत्री मोदी आज करेंगे ‘गति शक्ति’ योजना की शुरुआत, बढ़ेगी विकास की स्पीड


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस बार 15 अगस्त को इस योजना का ऐलान किया था. इस पहल में वायुमार्ग, राजमार्ग, जलमार्ग और बंदरगाहों से संबंधित बुनियादी ढांचे में समन्वित प्रयास होंगे इसी के साथ आज दिनांक 13 अक्टूबर 2021 को इस योजना की शुरूआत प्रधानमंत्री मोदी जी द्वारा की जाएगी।

पिछले बीते वर्ष में कोरोना महामारी के चलते देश की अर्थव्यवस्था बे-पटरी हो गई थी और अब वह धीरें-धीरें पटरी पर लौट आई है इस अर्थव्यवस्था को और गति देने के लिए लगातार नई-नई योजनाएं शुरू की जा रही हैं।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस वर्ष 15 अगस्त को दिल्ली के लाल किले की प्राचीर से योजना “गति शक्ति योजना” (GATI SAKTI YOJNA) का ऐलान किया था । 100 लाख करोड़ रुपये की यह योजना कल लॉन्च की जाएगी. इस योजना को देश में रोजगार के मौके बेहतर करने के लिए इस्तेमाल में लाया जाएगा.
उम्मीद यह की जा रही है कि यह योजना देश का मास्टर प्लान और इंफ्रास्ट्रक्चर की नींव रखने में अहम भूमिका निभाएग। 100 लाख करोड़ रुपये की इस योजना को देश में रोजगार के मौके को बेहतर करने के लिए इसका इस्तेमाल किया जाएगा.

प्रधानमंत्री द्वारा लांच की गई गति शक्ति योजना के माध्यम से देश के युवाओं को रोज़गार के अवसर प्रदान किए जाएंगे। यह योजना देश का मास्टर प्लान और इंफ्रास्ट्रक्चर की नींव रखने में अहम भूमिका निभाएगी। इस योजना के माध्यम से लोकल निर्माताओं को विश्व स्तर पर प्रतिस्पर्धी बनाया जा सकेगा, इससे उद्योगों का विकास होगा।

आइये जानते है संक्षेप में क्या है गति शक्ति योजना


करीब 20,000 करोड़ रुपये के निवेश से उत्तर प्रदेश और तमिलनाडु में 2 डिफेंस कॉरिडोर बनाने की योजना है गति शक्ति योजना (GATI SHAKTI YOJNA ) से साल 2024-25 तक देश में रेलवे की कार्गो हैंडलिंग क्षमता को मौजूदा 1200 मीट्रिक टन से बढ़ाकर 1600 MT तक किया जाना है, इससे दो डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर के निर्माण में भी तेजी आ जाएगी।

गति शक्ति योजना का कान्सेप्ट कहां से आया-


बात वर्ष 2014 की है जब सत्ता में आने के बाद ही पीएम मोदी ने एक ही तरह के काम करने वाले कई मंत्रालयों जिनको एक ही मंत्री को सौंपकर ‘सुपर मिनिस्टर्स’ की अवधारणा पेश की थी ताकि बेहतर सिनर्जी तैयार हो सके लेकिन ब्यूरोक्रेसी का सिस्टम इस तरह का है कि उसमें अलग-अलग खांचों में काम होता है. इससे निपटने के लिए इस गति शक्ति योजना का प्रस्ताव रखा गया ताकि साल 2024-25 तक सभी बड़े इन्फ्रास्ट्रक्चर और कनेक्ट‍िविटी के लक्ष्यों को पूरा किया जा सके, एक तरह से यह कहा जा सकता है कि गतिशक्ति योजना ‘सरकारी वर्क कल्चर’ में आमूल बदलाव का एक प्रयास है जिसमें अभी तक होता यह था कि दाहिने हाथ को भी नहीं पता होता था कि बायां हाथ क्या कर रहा है।

क्या होगा इस योजना के तहत


यह डिजिटल मंच ढांचा बुनियादी तौर पर विकास कार्यों को फुल स्पीड से चलाने में मदद करेगा, इससे उद्योगों की कार्य क्षमता बढ़ाने में मदद होगी, इससे स्थानीय विनिर्माताओं को बढ़ावा मिलेगा इस योजना के तहत यह उद्योगों की प्रतिस्पर्धात्मकता को बढ़ाएगा और भविष्य के आर्थिक क्षेत्रों के निर्माण के लिए नई संभावनाओं को भी विकसित करने में मदद करेगा।


Also Read:

यूपी फ्री लैपटॉप योजना रजिस्ट्रेशन 2021: UP Free Laptop Yojana 2021 Online Form

e-RUPI kya hai | e-RUPI kaise use kare


प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना की क्या-क्या विशेणताएं है-


• 75वें स्वतंत्र दिवस पर मोदी जी द्वारा प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना का ऐलान किया गया।
• इस योजना के अंर्तगत युवाओं को रोजगार के अवसर प्रदान किए जाएंगे।
• इस योजना का कुल बजट 100 लाख करोड़ निर्धारित किया गया है।
• इस योजना के अंर्तगत इंफ्रास्ट्रक्चर का चहुमुखी विकास सुनिश्चित होगा।
• लोकर निर्माता को विश्व स्तर पर प्रतिस्पर्धी बनाया जाएगा।
• आधुनिक इंफ्रास्ट्रक्चर के साथ इंफ्रास्ट्रक्चर निर्माण में हॉलिस्टिक अप्रोच अपनाई जाएगी।
• योजना के तहत नए इकोनॉमिक जोन भी विकसित किए जाएंगे।
• एक हॉलिस्टिक इंफ्रास्ट्रक्चर की नींव इस योजना के माध्यम से रखी जाएगी।
इस योजना से क्या है राजनीतिक फायदा
कहते है हर चीज के पीछे कुछ न कुछ मकसद जरूर होता है इसमें राजनीतिक फायदा भी निहित है क्योंकि यदि गतिशक्ति योजना के तहत अगर बड़ी बुनियादी परियोजनाओं के काम में तेजी आती है तो इससे प्रधानमंत्री मोदी को साल 2024 में तीसरे कार्यकाल के लिए जीत दिलाने में मदद मिलेगी।
सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (एमईआईटीवाई) के तहत भास्कराचार्य राष्ट्रीय अंतरिक्ष अनुप्रयोग और भू-सूचना विज्ञान संस्थान (BISAG-N) ने इस मंच को विकसित किया है।
उद्योग और आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग (DPIIT) सभी परियोजनाओं की निगरानी और कार्यान्वयन के लिए नोडल मंत्रालय होगा परियोजनाओं का जायजा लेने के लिए एक राष्ट्रीय योजना समूह नियमित रूप से बैठक करेगा किसी भी नई जरूरत को पूरा करने के लिए मास्टर प्लान में किसी बदलाव को मंजूरी देने को लेकर कैबिनेट सचिव की अध्यक्षता में सचिवों का एक अधिकार प्राप्त समूह (EGOM) गठित किया जाएगा।

FAQ’s

Q- गति शक्ति योजना कब लांच की गई?

Ans- 15 अगस्त 2021

Q- गति शक्ति योजना कब शुरू की गई?

Ans- 13 अक्टूबर 2021

Q- गति शक्ति योजना किसके द्वारा शुरू की गई?

Ans- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा

Q- गति शक्ति योजना का बजट कितना है?

Ans- 100 लाख करोड़

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page